On Page SEO क्या है | वेबसाइट पर ट्रैफिक कैसे बढ़ाएं ?

On Page SEO kya hai hind

On Page SEO kya hai hindi | वेबसाइट पर ट्रैफिक कैसे बढ़ाएं ?

आज के समय में SEO, On Page SEO इंटरनेट पर सबसे पॉपुलर टॉपिक है, और इंटरनेट पर बहुत ज्यादा सर्च किया जाने वाला टॉपिक भी है, क्योंकि हर कोई अपनी वेबसाइट को गूगल सर्च इंजन में रैंक करवाना चाहता है, और सर्च इंजन में Rank करके अपनी वेबसाइट पर ट्राफिक को ज्यादा बढाना चाहते है।

जिसमें SEO सबसे महत्वपूर्ण है, और SEO में बहुत सारे ऐसे अलग-अलग पॉइंट है,जिनके द्वारा हम ब्लॉग पोस्ट को बहुत ही जल्दी गूगल सर्च इंजन या दूसरे किसी इंजन मैं रैंक करवा सकते है।

SEO के दो प्रकार है :-

  1. On Page SEO
  2. Off Page SEO

जिसमें आज हम On Page SEO जो कि सबसे महत्वपूर्ण होता है,आइए उसके बारे में जान लेते है :-

On Page SEO ज्यदा कुछ नहीं है, बस यह एक माध्यम है, जो Search Engine के Algorithms को समझाने में आपकी मदद करता है, कि एक सर्च इंजन कैसे काम करता है, वह किस प्रकार के Algorithms का उपयोग करता है, और यदि आपकी कोई पोस्ट है तो वह आप उस Algorithm के हिसाब से कैसे बनाएं ताकि सर्च इंजन आपकी उस पोस्ट तक जल्दी से पहुंच जाए, और आपकी पोस्ट सर्च इंजन में Rank कर जाए।

सर्च इंजन बहुत सरे है और सभी के अलग अलग Algorithm होते है, जैसे कि Yhaoo, Bing, Baidu, Ask आदि इसके आलावा और भी बहुत सरे Search Engine है और परन्तु इन सभी में Google सबसे पापुलर Search Engine है, ज्यादा लोग गूगल सर्च इंजन का ही उपयोग करते है तो सभी लोग यही कहते है की उनके द्वारा लिखा गया Blog Post ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़े और वह जल्दी से Google Search Engine में Rank करे ताकि उन्हें Search Engine के द्वारा Organic Trafic प्राप्त हो ।


इसे भी पढ़े :- Bounce Rate क्या है, ओर इसे कैसे कम करे?

On Page SEO कैसे करे?

इसमें हम उन सभी टेक्निक्स के बारे में Step-by-Step जानेंगे जिनका उपयोग करके ब्लॉक पोस्ट को सर्च इंजन में Rank करवा सकते है और एक सर्च इंजन और यूजर फ्रेंडली Article त्यार कर सकते है, क्योंकि इन सभी चीजों का ध्यान रखकर ही हम Algorithm के हिसाब से पोस्ट क्रिएट करेंगे और उसे रैंक करवाएंगे इससे आपकी पोस्ट की क्वालिटी तो सुधरेगी और यह एक User के लिए पढ़ने में भी बहुत आसान हो जाएगी।

आइए अब इसके कुछ मुख्य टेक्निक देख लेते हैं।

  • Title Tag (Post Title name)
  • Main Heading
    • Keyphrase in introduction
  • Image SEO setting
  • Permalink
  • Subheadings
  • Paragraph writing (Text Format)
    • Text formatting
    • Text length
  • Meta Description
  • Internal linking
  • Tag setting
  • Focus keyboard
  • Outbond links

Post Titie :– Title आपके द्वारा लिखी गई पोस्ट का नाम होता है, जिस भी बारे में आपने पोस्ट को लिखा है। टाइटल SEO के हिसाब से केवल 55 Character और 512 पिक्सल का होना चाहिए। यदि आप इससे बड़ा टाइटल लिखते हैं, तो वह गूगल सर्च इंजन में Show नहीं करेगा। आप जिस भी बारे में पोस्ट को लिख रहे हैं,वह पोस्ट यूनिक होना चाहिए और आपका जो टाइटल है उसी के बारे में पोस्ट भी होनी चाहिए मतलब की हमारा टाइटल Keyword ऐसा हो जोकि पूरी पोस्ट से संबंधित हो।

Main Heading :- टाइटल में तो सिर्फ आपने इतना ही बताया है कि पोस्ट किस बारे में लेकिन मैंन हेडिंग में आप वे सभी चीजों को बताते हैं कि आपने आपकी पोस्ट में किन-किन विषयो को कवर किया है। इसमें हम H2 हेडिंग का उपयोग करना चाहिए। मेन हैडिंग बिल्कुल हमारे पोस्ट टाइटल ओर Featured Image के नीचे की ओर होती हैं, इसका Font बोल्ड होता है,इसमें आपको आपके Focus Keyword को जरूर ऐड करना चाहिए परन्तु इनको ज्यादा बार रिपीट भी नहीं करना चाहिए यह पोस्ट पर गलत प्रभाव डालता है, इसे keyword stuffing कहते है।

Internal Link :- इंटरनल लिंक वह लिंक होती है,जो कि आप आपकी वेबसाइट के किसी और ब्लॉग पोस्ट या पेज लिंक को अपने दूसरे ब्लॉग में ऐड करते हैं। इससे विजिटर आपकी वेबसाइट की ज्यादा समय के लिए Visit करता है, उसे पढ़ने के लिए आपके और ब्लॉग पोस्ट मिल जाती है वह उन ब्लॉग पोस्ट को भी विजिट करता है, साथ ही, Search Engine को भी आपकी वेबसाइट को समझने में मदद मिलती हैं। यह सर्च इंजन में पेज इंडेक्सिंग के लिए काफी उपयोगी है, जिससे आपकी वेबसाइट जल्दी Rank करती है। ब्लॉग पोस्ट के बीच में और अंत में हमें हमारी वेबसाइट की और पोस्ट को इंटरनल लिंकिंग कर देना चाहिए।

Meta Description :- मेटा डिस्क्रिप्शन वह होता है, जो आपके Post Title या पोस्ट के बारे में एक थोड़ी सी Extra जानकारी देता है। मेटा डिस्क्रिप्शन वह ही है, जो गूगल सर्च पेज में आपके पोस्ट टाइटल के नीचे लिखा होता है, नीचे चित्र में देखिए आपको समझ आ जाएगा। ध्यान रहे इसे आप 150 character or 920 Pixel का ही लिखे इससे ज्यादा बढ़ा ना हो। पोस्ट SEO के लिए आपको Focus Keyword को Meta Description में कम से कम एक या दो बार डालना चाहिए।

Focus Keyword :- फोकस कीवर्ड वह होता है, जो कि आपके पोस्ट टाइटल का सबसे महत्वपूर्ण भाग है, जिसके बारे में आप वह पोस्ट लिख रहे है। चलिए इस एक उदाहरण से समझते हैं – मान लीजिए आपकी पोस्ट का टाइटल है “SEO क्या है, कैसे करे और इसके फायदे” तो इसमें Focus Keyword होगा ‘SEO’ क्योंकि उसके बारे में ही तो हम पूरी पोस्ट लिख रहे है, उसके ही उपयोग के तरीके बता रहे है,और उसके फायदे भी तो Focus Keyword किसी भी ब्लॉग पोस्ट के लिए बहुत जरूरी होता है, इसे आप सभी जगह पर जैसे कि – Title, Heading, Subheading, Meta Description पर डाल दे पर Keyword Stuffing भी ना करें।

Image SEO Setting :- हमारे ब्लॉक पोस्ट में हम जो भी इमेज का उपयोग करते है SEO के लिए एक दम Perfect होना चाहिए। तो हम हमारी इमेज को कैसे परफेक्ट बनाइए उसके लिए कुछ नियम है :-

  • Alt Text को जोड़ना यह Serch Engine को हमारे ब्लॉग पोस्ट के बारे में और अधिक जानकारी देता है।
  • जिस भी Image को आप अपलोड कर रहे है, पहले उसे Compress कर ले।
  • Alt Text में आप अपने ब्लॉग पोस्ट का टाइटल ऐड कर सकते है या फिर वह इमेज किस बारे में है यह भी ऐड कर सकते है।
  • Alt Text ज्याद बड़ा भी ना लिखे इसे केवल 100 से 110 वर्ड का ही लिखे।
  • Image Rename करे जिस भी इमेज को आप उसे कर रहे है Rename करके उसमें अपना Parmalink डाल दे या फिर जिसमें की Space ना दिया गया हो।
  • इमेज का साइज 50Kb या कम साइज का ही अपलोड करे यह आपके पेज स्पीड को कम करता हैं।

Parmalink :- यह केवल आपके पोस्ट का लिंक होता है,जिसे की आप लिख रहे है यह बाद में आपकी वेबसाइट लिंक के बाद ऐड होकर Visitor को दिखता है। Parmalink को भी आप ज्यादा बड़ा ना बनाए वैसे तो इस Title Text के अनुसार ही 55 से 60 Character का रहने दे या फिर आप Custom Parmalink बना रहे है तो इससे ज्यादा बड़ा ना बनाए ओर आपके टाइटल में कोई हिंदी वर्ड हो तो उसे भी आप हटा दे।

Subheading :- यह क्या होती है,ये तो आपको पता ही होगा इसमें ज्यादा कुछ तो ध्यान रखने वाली बात नहीं बस सब Subheading में आपका Keyword ऐड हो और यह आपके पोस्ट के बारे में हो। इसमें हमें H3, H4 Heading का उपयोग करना चाहिए, आप चाहे तो H2 हेडिंग का उपयोग भी कर सकते है।

Paragraph Writing :-इसे आप को बहुत ही अच्छी तरह से लिखना चाहिए, क्योंकि सब कुछ आपकी पोस्ट का आपके लिखने पर ही तो निर्भर करता है। आप ब्लॉग पोस्ट को लिखने के लिए ऐसी टेक्निक्स का उपयोग करें जो कि एक रीडर के पड़ने के लिए बहुत ही आसान और फायदेमंद हो। पैराग्राफ को लिखने में आपको बहुत ही सरल भाषा का उपयोग करना चाहिए, पैराग्राफ को ज्यादा बड़े नहीं लिखना चाहिए, लगभग 20 से 25 वर्ड का एक पैराग्राफ हो। इसमें आपके Focus Keyword को आप बोल्ड, Underline, या टेक्स्ट कलर कर दे जिससे वह अलग ही दिखे।

Tag :- टैग वह होते है, जो आप आपके पोस्ट के साथ एड कर करते है कि आपकी पोस्ट किस-किस टॉपिक के बारे में है,और उनसे संबंधित है, और साथ ही यदि आपने एक जैसे टैग दो या अधिक पोस्ट में उपयोग किए है तो यह टैग उन दोनों पोस्ट को टैग के हिसाब से साथ में दिखा देगा।

Outbond Link :- यह लिंक इंटरनल लिंक से उल्टा काम करती है, जब आप अपने ब्लॉग पोस्ट में किसी और वेबसाइट से लिंक को ऐड करते है तो इसे Outbond Link कहते है।


On Page SEO or Off Page SEO में क्या अंतर है।

ब्लॉग पोस्ट कि अच्छी रैंक पाने के लिए On Page SEO or Off Page SEO दोनों ही बहुत जरूरी है, यह दोनों ही अपनी अपनी जगह पर बहुत जरूरी है। Search Engine केवल यही ही नहीं देखता कि आपने पोस्ट को कितने अच्छे तरीके से लिखा है, बल्कि यही भी देखता है कि आपकी वेबसाइट कितनी पॉपुलर है,इसे कितने लोग विजिट करते है।

On Page SEO की मदद से हम Post को Search Engine Fraindly बनाते हैं,उसमें उन सभी बातो का ध्यान रखते है जो कि एक Search Engine के लिए जरूरी है पोस्ट को रैंक करवाने के लिए। वहीं पर…

Off Page SEO करके हमारी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाते है, उसे ओर पॉपुलर बनाते है, हमारे पोस्ट ओर वेबसाइट के लिंक को हम दूसरी वेबसाइट में डाल देते है। जिससे कि जब यूजर हमारे लिंक तक पहुंचे तो हमरे वेबसाइट पर आए ओर विजिट करे,और हमरी वेबसाइट की पापुलैरिटी बड़े ओर SERP में और ज्यादा रैंक करे।


SEO करना क्यों जरूरी है?

यदि आप On Page SEO के बारे में पड़ रहे है,तो इसका मतलब यही है कि आपको SEO के बारे में ओर जानकारी चाहिए आपको बस उसके बारे में कुछ ही बातें पता है पर सिर्फ कुछ बातो को जान लेना SEO के लिए कुछ नहीं होगा इसके बारे में तो आप जितना जानोगे उतना कम होगा या हम यू कह ले की SEO एक समुद्र है, जिसमें की पानी की कोई कमी नहीं है।

SEO के बारे में जानने के लिए हमें हमेशा त्यार रहना चाहिए क्योकि इसमें हर समय बदलाव होता रहता है, ऐसा बिलकुल भी नहीं है की आपने एक बार इसके बारे में जान लिया तो काफी होगा सर्च इंजन के हिसाब से इसमें चेंज होता रहता है और यह तो एक ऐसा विषय हे जितना ज्यदा आप इसके बारे में जानेंगे आप उतना ही अच्छा On Page SEO कर पाएंगे।


On Page SEO हेल्प कैसे करता है?

On Page SEO सिर्फ इस बात पर Focus करता है, कि आपकी Blog पोस्ट एक पड़ने वाले User ओर Search Engine के लिए कितनी अच्छी हो सकती है। ताकि User उसे ठीक से पड़ सके ओर Search Engine भी उसे Index कर सके, On Page SEO करके हम पोस्ट को बिलकुल इस प्रकार से त्यार कर देते है की, उसे सर्च इंजन में index होने में कोई भी परेशानी न हो जब सर्च इंजन के Crawler bot हमारी वेबसाइट पर आये तब वह आसानी से सभी कुछ जान जाये और सर्च इंजन को बता दे की यह पोस्ट index के लिए त्यार है ।



Share