Fishbone Diagram Kya Hai in Hindi | फिशबोन डाइग्राम क्या है

Fishbone Diagram / Ishikawa / Cause and Effect Diagram

Fishbone Diagram / Ishikawa / Cause and Effect Diagram | फिशबोन/इशिकावा / कॉज एंड इफेक्ट डायग्राम क्या है।

Fishbone Diagram किसी भी समस्या के उत्पन्न होने के जो संभव कारण हो सकते हैं उसका पता लगते है और फिर इसकी मदद से मुख्य कारण का पता करते है। इसमें हम Cause और effect के बीच संबंध को देखते हैं “

Cause and effect diagram को प्रोफेसर Kaoru Ishikawa ने 1949 में बनाया था, इसलिए इसे Ishikawa Diagram भी कहते हैं इसका स्ट्रक्चर मछली की हड्डी की तरह दिखता इस लिए ही इसे हम Fishbone Diagram डायग्राम भी कहते हैं।

Cause and effect diagram किसी भी समस्या के एनालिसिस में मदद करता है, यह प्रॉब्लम के हर संभव कारण (Potential cause) को बताता है, यह मुख्य कारण (Root cause) के बारे में नहीं बताता है। परंतु हम पहले हर संभव कारण को जानकर मुख्य कारण तक पहुंच सकते हैं।


आइए अब समझ लेते हैं कि इसे कैसे बनाया जाता है या पढ़ा जाता है डायग्राम को देखकर समझिए :-

Fishbone Diagram / Ishikawa / Cause and Effect Diagram
Fishbone Diagram / Ishikawa / Cause and Effect Diagram
  • मुख्य कारण को हम बीच में जो सीधी लाइन हैं उस पर लिखते हैं।
  • उसके अन्य दूसरे कारण (Sub Causes) है उन्हें उपर पर नीचे की तरफ लिखते है जैसे कि मैन, मेथड, मशीन, मटेरियल, मनी, इन्वायरमेंट।
  • इसके अलावा इनके भी यदि और कोई कारण है तो इसे भी हम इसमें लिखते हैं।
  • सभी छोटी-बड़ी समस्याओं को लिखने के बाद हम उसका मेन समस्या पर क्या इफेक्ट है उसे देखते हैं।
  • इससे हम यह पता चलता है कि कहां पर और कितनी समस्या है।

Cause and effect diagram का उपयोग हम क्यों करते हैं?

  • किसी प्रॉब्लम के बारे में जानने के लिए और इसकी मदद से उसके जड़ तक के कारण (root cause) ढूंढने के लिए।
  • किसी कठिनाई, ब्रेकडाउन, या प्रॉब्लम को जानने के लिए कि एक प्रॉब्लम के क्या-क्या संभव कारण हो सकते हैं।
  • यह किसी समस्या के लिए डाटा कलेक्शन में भी मदद करता है।

Cause and effect diagram के क्या फायदे हैं?

  1. यह हमें Potential causes को ढूंढने में मदद करता है जिससे कि हम Main causes फाइंड कर ले ।
  2. यह टीम वर्क को बढ़ाता है।
  3. एक दूसरे डिपार्टमेंट के लोग साथ में मिल कर कार्य करते हैं।
  4. यह Brainstorming के रिलेशनशिप को भी एस्टेब्लिश करता है।

इन्हे भी पढ़े :-

Flow chart kya hai In Hindi (प्रोसेस फ्लो चार्ट क्या है)

Quality Assurance (क्वालिटी एश्योरेंस) kya hai In Hindi

Quality Control (क्वालिटी कंट्रोल) kya hai in Hindi

POKA YOKE kya hai In Hindi | पॉको योके के क्या है हिंदी में

Kaizen Kya Hai In Hindi | काइज़न क्या है हिंदी में


Share