Scatter Diagram kya hai in hindi | स्कैटर डायग्राम क्या है

Scatter Diagram kya hai in hindi

Scatter Diagram kya hai in hindi | स्कैटर चार्ट क्या है?

Scatter Diagram एक Graphical Tool है ,यह Independant ओर Dependent Variables में संबंध को दिखता है, इसे Dr. Kaoru Ishikawa ने बनाया था।

किसी भी Problem में उसके होने के कारण ओर उन कारणों से क्या प्रभाव पड़ रहा है, यह सभी Data Record किया जाता है, फिर इसके द्वारा Scatter Chart बनाया जाता है, इस से हम यह पता चलता है कि उन दोनों Variables में क्या ओर किस तरह का संबंध है।


Variable In Scatter Diagram

Scatter Diagram में 2 Variable होते है एक को X-Axis ओर दूसरे को Y-Axis पर रखते है इनमें से एक Variable Independent होता है, जिसे हम X-Axis पर रखते है ओर दूसरा Variable Dependent होता है, जिसे की हम Y-Axis पर रखते है।


इन्हें भी पढ़े :-

5S Kya hai in hindi | 5S क्या है हिंदी मैं

Fishbone Diagram Kya Hai in Hindi | फिशबोन डाइग्राम क्या है


Data Colletion

Scatter Chart/Scatter Plot को बनाने के लिए हमें कम से कम 25 से 30 Deta Points की जरूरत होती है, तभी हमरा चार्ट ठीक तरीके से बन पाता है। कम Data प्वाइंट होने पर वह किस प्रकार का Relationship Show करेगा हम समझ नहीं पाएंगे।

Types of Correlation In Scatter Diagram

Scatter Diagram kya hai in hindi

1. Perfect Positive Correlation :- आपको सभी प्रकार के Variable Relationship चित्र में देखने से पता चल जाएंगे। Perfect Positive Correlation दोनों Variable के बीच एक मजबूत Relationship को दिखता है, एक वेरिएबल बढ़ता है तो दूसरा वेरिएबल भी उसी प्रकार से बढ़ता जाता है। सभी प्वाइंट एक ही लाइन में बढ़ते हुए है ।

2. Perfect Negative Correlation :- यह Perfect Positive Correlation से बिल्कुल उल्टा होगा एक वेरिएबल के घटने से दूसरा वेरिएबल भी उसी प्रकार से कम होता चला जाता है। हम देखते है कि सभी प्वाइंट एक ही लाइन में तो है लेकिन घटते हुए है।

3 High Degree Positive Correlation :- इसमें हम यह देखते है कि हमारे जो Data Point है, वह परफेक्ट Correlation तो नहीं दिखा रहे लेकिन ज्यादा इधर उधर भी नहीं है, Center लाइन को देखे तो बस थोड़ा उतार – चड़ाव है।

4. High Degree Negative Correlation :- इसमें Deta Point Center लाइन के आस पास होते है, परन्तु घटते हुए क्रम में होते है, जो कि High Degree Negative Correlation को दिखता है।

5. Zero Correlation :- इसमें Data Points यहां वहां बिखरे हुए होते है, जो कि किसी प्रकार का कोई संबंध नहीं रखते एक दूसरे से इस प्रकार का Relationship हमें ZERO Correlation को दिखता है।,


Limitations of Scatter Chart

  • इसमें हमें 2 Veriable की जरूरत होती है।
  • इसके लिए कम से कम 25 to 30 Data Point की जरूरत होती है।
  • डेटा पॉइंट्स ठीक तरीके से Collect ना होने पर यह चार्ट नहीं बन पाएगा।


Share

1 thought on “Scatter Diagram kya hai in hindi | स्कैटर डायग्राम क्या है”

  1. Pingback: 7 QC Tool kya hai in Hindi | 7QC टूल क्या है हिंदी में - Engineerhindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *