What Is ISO Certification | Benefits & ISO Full Form

what is-iso-certification-in-hindi

What Is ISO Certification In Hindi | ISO क्या है ?

ISO Certification एक प्रकार का Certificate होता है, जो की किसी व्यवसाय, संस्था या उद्योग को दिया जाता है, यह Certificate उस उद्योग के Quality Standard के बारे बताता है। ISO एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है, जिसकी स्थापना 23 फरवरी 1949 में जिनेवा, स्विट्जरलैंड में हुई थी। इसमें 150 से ज्यादा देश शामिल है। ISO का पूरा नाम International Organization For Standardization (अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन) है।


Full Form of ISO | ISO का पूरा नाम क्या है ?

ISO का पूरा नाम International Organization For Standardization (अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन) है।

ISO का क्या काम है :-

ISO किसी भी कंपनी या संस्था की सबसे पहले पूर्ण तरीके से जांच करते हैं, जैसे कि :-

  • प्रोडक्ट की गुणवत्ता किस प्रकार की है।
  • क्या कंपनी के ग्राहक प्रोडक्ट से संतुष्ट है और यदि ग्राहक की कोई समस्या है तो क्या उसका समाधान किया जा रहा है।
  • कंपनी में सभी Safety Rule ठीक से फॉलो किए जा रहे हैं।
  • Company का मैनेजमेंट सिस्टम ठीक है या नहीं ।

Benefits of ISO | ISO के फायदे

  • ISO Certification से कंपनी के प्रति बाजार में विश्वास बढ़ जाता है।
  • ISO certification से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कंपनी के स्टैंडर्ड में सुधार आता है, जिससे व्यापार में ओर अधिक फायदा मिलता है।
  • ISO Certification से बाजार में कंपनी के प्रोडक्ट की क्वालिटी के लिए एक भरोसा बन जाता जाता है।
  • Company का Management System ओर अधिक मजबूत बनता है।
  • कंपनी में Safety Regulations पर विशेष ध्यान दिया जाता है, एवं नियमों का ठीक तरह से पालन किया जाता है।
  • कंपनी के कार्य करने के तरीकों में सुधार आता है।
  • कर्मचारियों में काम करने के लिए उत्साह बढ़ जाता है।
  • पैसे और समय दोनों को बचाएं, इससे कम लागत में उत्पादकता बढ़ जाती है।
  • अपने व्यवसाय, उद्योग में आने वाली परेशानियों को कम करता है।
  • ISO यह प्रमाणित करता है कि – ये कंपनी या Management System निर्माण प्रक्रिया, सेवा दस्तावेज़ प्रक्रिया में सभी शामिल हैं।
  • सेवा वस्तु ओ की बाजार में विश्वसनीयता बढती है।
  • साफ-सुथरा व्यवहार होने के कारण ग्राहक का विश्वास बढ़ता है, और नए ग्राहक व्यवसाय के साथ जुडते है।
  • व्यापार में शुद्धता और बढ़ोत्तरी आती है ।
  • कार्यस्थल में सुधार आता है ।

Type of ISO Certification | ISO Certification के प्रकार

जिस प्रकार का Business होता है, उसकी जरूरत के हिसाब से ISO Certification के प्रकार चुनाव करना होता है ।

कुछ ISO Certification के प्रकार नीचे दिए गए है :-

  • ISO 9001:2008 – Quality Management System
  • OHSAS 18001 – Occupational Health & Safety Management System
  • ISO 27001 – Information Security Management System
  • ISO 10002 – Complaint Management System
  • ISO 37001 – Anti-bribery Management System
  • ISO 31000 – Risk Management
  • ISO 14001:2015 – Environment Management System
  • ISO 26000 – Social Responsibility
  • ISO 28000 – Security Management
  • ISO 22008 – Food Safety Management
  • SA 8000- Social Accounting
  • ISO 639 – Language Code
  • ISO 4217 – Currency Code
  • ISO 3166 – Country Code
  • ISO 8601 – Data and time format
  • ISO 20121 – Sustainable Events


What is ISO 9000 –
ISO 9001, ISO 9001:2015

ISO 9000 ये एक Quality Management Systems का ही हिस्सा है। जो की 1987 में ISO ने जारी किया था। ISO 9000 की देखभाल अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (International standardization organization) द्वारा ही की जाती है, और यह मान्यता और Certification Officers के द्वारा ही संभाल जाता किया जाता है।
इनमें समय ओर जरूरत के अनुसार नियमों में बदल भी किये जाते है।

ISO 9001 Quality Management System लगभग 180 देशों में 10 लाख से अधिक Certified Organizations के साथ, दुनिया की सबसे अच्छी और ज्यादा पसंद किए जाने वाला Quality Improvement System है।
पहले कंपनी या संस्था को ISO द्वारा 9001:2008 ये Certificate दिया जाता था, पर अब ISO 9001:2015 यह Certificate प्रदान किया जाता है।

ISO Certification के लिए Application Fee

ISO Certification की Fee fixed नहीं है, यह Organization के अनुसार अलग अलग होती है। इसके कुछ Parameters होते है, जिनके द्वारा ISO Certification Agency यह निर्धारण करती है की ISO Certification Cost कितना होगा।

  1. Organization का आकार कितना है ।
  2. Organization मे कितने लोग काम कर रहे है।
  3. संग़ठन की प्रक्रिया किस प्रकार है।
  4. Organization मे जो काम हो रहा है उसमे Risk का क्या Level है।
  5. Management System के कार्य पर की वह किस प्रकार का है ।
  6. Organization मे Working Shifts की कितनी है या कितने टाइम की है ।

इन्हे भी पढे :-


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *