7 QC Tool kya hai in Hindi | 7QC टूल क्या है हिंदी में

7 QC Tool kya hai in Hindi

7 Quality Control Tool | 7 क्वालिटी कंट्रोल टूल क्या है?

यह बेसिक क्वालिटी कंट्रोल टूल है, जिसकी मदद से हम क्वालिटी से संबंधित प्रॉब्लम को सॉल्व करते हैं, इसमें हम पहले डाटा कलेक्ट करते हैं, फिर डाटा एनालाइज करते हैं, डाटा को एनालाइज करने के बाद हम मूल समस्या को ढूंढते हैं, इसके बाद हम प्रॉब्लम पर एक्शन लेते हैं, और रिजल्ट देखते हैं। यह टूल न्यूमेरिकल डेटा पर काम करते हैं। 7 Quality Control Tool डिफेक्ट को कम करते है, और प्रोडक्ट की क्वालिटी को ज्यादा बेहतर करते हैं।


7 Quality Control Tool कौन-कौन से हैं?

  1. Flowchart / फ्लो चार्ट
  2. Cause and effect diagram / कॉज एंड इफेक्ट डायग्राम
  3. Check sheet / चेक सीट
  4. Histogram / हिस्टोग्राम
  5. Pareto analysis / परेटो चार्ट
  6. Scatter diagram / स्कैटर डायग्राम
  7. Control chart / कंट्रोल चार्ट

सभी 7QC Tool के बारे में और ज्यादा जानने के लिए टूल के Main Heading पर क्लिक करे –

1. Process Flow Chart (7 QC Tool)

7 QC Tool में सबसे पहला टूल है Process Flow Chart इसके द्वारा हमें किसी भी प्रक्रिया के सिक्वेंस को समझने में आसानी होती है, यह प्रोसेस को स्टेप बाय स्टेप ग्राफिकल डायग्राम के रूप में दिखाता है, इसमें कई तरह के Symbol होते हैं, जो कि अलग-अलग Process को दिखाते हैं, जो एक एरो से कनेक्ट होते हैं।

Type of flow chart

  • Process flow chart
  • Data flow chart
  • Business process modelling diagram

2. Cause and Effect Diagram / कॉज एंड इफेक्ट डायग्राम

7 QC Tool में Fishbone Diagram के द्वारा किसी भी समस्या के उत्पन्न होने के जो संभव कारण हो सकते हैं, उसका पता लगते है और फिर इसकी मदद से मुख्य कारण का पता करते है। इसमें हम Cause और effect के बीच संबंध को देखते हैं।

Cause and effect diagram को प्रोफेसर Kaoru Ishikawa ने 1949 में बनाया था, इसलिए इसे Ishikawa Diagram भी कहते हैं। इसका स्ट्रक्चर मछली की हड्डी की तरह दिखाई देता है, इस लिए ही इसे हम Fishbone Diagram डायग्राम भी कहते हैं।

Cause and effect diagram किसी भी समस्या के एनालिसिस में मदद करता है, यह प्रॉब्लम के हर संभव कारण (Potential cause) को बताता है, यह मुख्य कारण (Root cause) के बारे में नहीं बताता है। परंतु हम पहले हर संभव कारण को जानकर मुख्य कारण तक पहुंच सकते हैं।


3. Check Sheet / चेक शीट क्या (7 QC Tool)

Check Sheet का उपयोग हम डाटा कलेक्ट करने के लिए करते है, इसमें हम रियल टाइम – रियल लोकेशन पर जहां पर डाटा जनरेट हो रहा है,वहां पर जाकर डाटा कलेक्ट करते हैं”

7 QC Tool में Check Sheet एक प्रकार की मैनुअल सीट होती है, जिस पर मैनुअली डाटा फिल किया जाता है, इसे टेली शीट (Telly Sheet) भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें हम Quantitative lnformation भी कलेक्ट करते हैं और टेली मार्क का उपयोग करते हैं, चेक सीट से प्राप्त जानकारी का हम हिस्टोग्राम ग्राफ बनाने में भी उपयोग कर सकते हैं।

यह एक ब्लैंक फॉर्म होता है, जो डिजाइन किया जाता है आसान तरीके से डाटा को इकट्ठा करने के लिए यह डाटा Quantitative or Qualitative दोनों प्रकार का हो सकता है।


4. Histogram / हिस्टोग्राम (7 QC Tool)

“Histogram एक ग्राफ है, जो की किसी टाइम इंटरवल में लिए गए न्यूमेरिकल डेटा का Bar ग्राफ द्वारा Frequency Distribution को दिखाता है”

7 QC Tool में Histogram प्रोसेस से लिए गए डेटा को Summarize करने में मदद करता है और यदि प्रोसेस में कोई बदलाव हो रहा है तो उसको समझें में हमारी मदद करता है। यह प्रोसेस के बारे में भी बताता है कि यह प्रोसेस कस्टमर की डिमांड को पूरा कर सकता है या नहीं।

हिस्टोग्राम का उपयोग करने के लिए हमारे पास न्यूमेरिकल डाटा होना चाहिए। डाटा जितना ज्यादा होगा एनालिसिस का रिजल्ट उतना ही बेहतर होगा।

5 तरीके की चेकशीट होती हैं।

  1. Attribute check sheet
  2. Variable check sheet
  3. Location check sheet
  4. Cause check sheet
  5. Check- confirmation check sheet (checklist)

5. Pareto analysis / परेटो चार्ट (7 QC Tool)

Pareto Chart एक सिंपल डायग्राम होता है, जिसमें कि एक X – Axis ओर दो Y- xis होते है (चार्ट के दोनों तरफ) जिसमें हम प्रॉब्लम, डिफेक्ट्स, या अन्य पैरामीटर को घटते हुए क्रम में लिखते हैं

हम सारी समस्याओं को एक साथ सॉल्व नहीं कर सकते हैं, हमें उन्हें जरूरत के हिसाब से बांटना पड़ता है, जो ज्यादा जरूरी है उसे पहले बाकी बाद में।

Pereto Chart को “Bar” ग्राफ और “Line” ग्राफ की मदद से बनाया जाता है, जिसमें Bar का उपयोग वैल्यू को दर्शाने के लिए किया जाता है, जिससे कि हम घटते हुए क्रम में लिखते हैं, इसे Vilfredo Pareto ने खोजा था। इसलिए उन्हीं के नाम पर Pareto चार्ट कहा जाता है, यह 80-20 रूल पर काम करता है।


6. Scatter Diagram/स्कैटर चार्ट

Scatter Diagram एक Graphical Tool है ,यह Independant ओर Dependent Variables में संबंध को दिखता है, इसे Dr. Kaoru Ishikawa ने बनाया था”

किसी भी Problem में उसके होने के कारण ओर उन कारणों से क्या प्रभाव पड़ रहा है, यह सभी Data Record किया जाता है, फिर इसके द्वारा Scatter Chart बनाया जाता है, इस से हम यह पता चलता है कि उन दोनों Variables में क्या ओर किस तरह का संबंध है।


7. Control chart / कंट्रोल चार्ट

“Control Chart प्रोसेस में हो रहे बदलाव (variation) को दिखाते हैं, कि उसमें कितना उतार-चढ़ाव हो रहा है,और इसके पीछे क्या क्या कारण है”

कंट्रोल चार्ट के मुख्य भाग

  • LCL ओर UCL :- यह कंट्रोल की लिमिट्स होती हैं।
  • X-Bar :- यह एवरेज प्रोसेस को दिखाता है।
  • No Action Zone :- यह+1 σ से -1σ के बीच में होता है।
  • Warning Zone :- यह ज़ोन +2σ से -2σ के बीच होता है।
  • Action Zone :- यह ज़ोन +3σ से -3σ के बीच में होता है।

कण्ट्रोल चार्ट के प्रकार

  • For Variable :- दो प्रकार के होते है।
    1. Mean Chart
    2. Range Chart
  • For Attributes :- यह भी दो प्रकार के होते है।
    1. P-Chart
    2. C- Chart


Share

2 thoughts on “7 QC Tool kya hai in Hindi | 7QC टूल क्या है हिंदी में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *